• ishbhatt 18w

    इश्क का सिरहाना, ईत्तफाक की चादर ओढ,
    मै निंदो मे जानेमन तुम्हे ढुंढता हूं।


    ©ishbhatt