• ripudamanjhapinaki 16w

    ख़ूबियां और ख़ामियां इन्सान की फितरत में है
    ग़र मुक्म्मल रहता तो,क्या वो न बन जाता खुदा।
    "पिनाकी"

    Read More

    ख़ूबियां और ख़ामियां इन्सान की फितरत में है
    ग़र मुक्म्मल रहता तो,क्या वो न बन जाता खुदा।
    "पिनाकी"
    ©ripudamanjhapinaki