• aisha_kukhrania 1w

    अब तक जो बंद था..
    गहराईयों में था..
    झपट्टा रहा था..
    आज वो तोड़ कर आया है..
    सब छोड़ कर आया है..
    अब जब आया है..
    उतनी तेजी से आया है..
    चमकदार रंग लाया है..
    उम्मीद जगाया है..
    लेकिन हां जनाब
    वो खरा सोना बहुत सह कर आया है।


    ©aisha_kukhrania