• krishnakr 14w

    मेरे मुक्कमल का सबब वो रात क्या होगी जनाब
    जिसे अंधेरा भी अपनी आगोश में छिपा नहीं सकता...
    ©krishnakr