• sumedh__10 5w

    फिसलती जाती है रेत पैरों तले,

    इम्तहाँ ले रहा है समंदर कोई।

    ~राकेश कुशवाह~