• laughing_soul 5w

    ये इश्क़ नहीं होता तो शायद शायर नहीं होते
    वो गलियाँ आबाद रहतीं जिससे दिल सब हैं कहते..
    ©laughing_soul

    लफ़्ज़ों में पिरोकर वो कुछ किस्से गढ़ ता है
    किस (दिल) के दिन के लिए ख़ुद की रात ज़ाया करता है..!
    @ayushsinghania

    बर्बादी से ही तो आबादी का सबब आता है,
    जो इश्क़ की आग में ना जले, वो शायर कहाँ निखर पाता है.. |
    @feelingsbywords

    जो डूबा आग के दरिया में, आशिक़ वो कहलाया
    लगा के आग लफ़्ज़ों में, शायर सा दिल पाया..
    @monikakapur

    दिल जो शायर सा पाया, धड़कन शायराना हो गई
    तलाश थी किसी गैर की, मुलाकात ख़ुद से हो गई..
    @amanshrivastava

    ख़ुद से मुलाकात हुई तो जाना हमने,
    सदियों से जिस सुकून को तलाश रहे थे हम इस दुनिया में
    वो तो था छिपा हमारे ही आशियाने में..
    @medicosasmitawrites_

    कभी लफ़्ज़ों को सजाना है, कभी गज़लों का बहाना है..
    एक हाल-ए-दिल सुनाना है, दिल के रोते में मुस्कुराना है..
    @shy_ar

    रोते में मुस्कुराना जो सीख लिया हम ने,
    इस नासाज़ ज़िन्दगी का सफ़र असान कर लिया हम ने..
    @anuaanvii_aaa