• limitloss 7w

    Inspiration:- Shrimad Bhagwat Geeta
    KrishnSaar��

    Read More

    अहंकार

    मनुष्य का दंभ (अहंकार)
    जब आसमान से ऊंचा
    हो जाता है,
    तब उसे अपने महान होने की
    भ्रांति हो जाती है।
    और उसी भ्रम में
    वो अनुचित व्यवहार करने
    लगता है।
    जो अंततः पश्चाताप का ही
    कारण बनता है।

    ©limitloss