• aish21 5w

    @hindiwriters @mirakeeworld

    आग़ाज़-आरंभ
    सिफ़र-शून्य
    क़ज़ा-मृत्यु

    Read More

    हस्ती का आग़ाज़ सिफ़र से हुआ था
    एक दायरा नापकर ये उसी ओर चली है।
    थमेगी सिर्फ़ वहाँ जाकर,जहाँ क़ज़ा मेरी राह ताके खड़ी है।


    ©Aishwarya