• anwer_haseeb 5w

    बारिशों की कशिश कुछ यूं हुआ मेरे शहर में ,
    तुम्हारी याद भी आती रही उन बूंदों की तरह ।

    :-हसीब अनवर