• shivamsingh96 14w

    ख़्वाब...

    इक मुअम्मा है समझने का न समझाने का,

    ज़िंदगी काहे को है ख़्वाब है दीवाने का।