• arunbhardwaj 5w

    गुमनाम दुश्मन हँसना भी सीखो
    सितमों को हम, कल फिर करेंगे

    हूँ रोने व रूलाने दोनों मे माहिर
    क्या जीत हारे ? जो हम न रहेंगे

    Arun Bhardwaj (Atirek)