• iftekharul_hasan 22w

    #दिल_में_दफन_कुछ_राज़

    Read More

    ज़िन्दगी बेज़ार हो गई हमारी तब।
    जब हमने उनके ज़ुल्म का बदला उनके ही अंदाज़ में लिया |
    ज़माने को लगा मिली है ख़ुशी हमें उन्हें तकलीफ देकर।
    मगर पूछो इस ज़ख्मी दिल से कि दर्द इसे खुद के बर्बाद होने का है।
    या उसे बर्बाद करने का है।

    ©iftekharul_hasan