• kartikji 7w

    मुझमे कहाँ इतना हुनुर की कुछ लिख सकूँ
    बस जज्बातों को कागज़ पे उतार-उतार के शायर कहला रहा हूँ
    ©kartikji