• arunbhardwaj 3w

    मुझ से शायरों को नफ़रत से ना पढ़
    हर नज़्म ख़ंजर है, हर बार पैनी हो जाएगी
    (ख़तरा क़ायम है)
    ©arunbhardwaj