• kavish_kumar 18w

    कलम का हर वक्त साथ, जैसे सनम है मेरे लिए..

    तेरी हर याद का जंगल,एक चमन है मेरे लिए..

    अधूरे इश्क़ की हर सौगात,ऐसा निखार लाई है..

    लगता है ये शब्द सजाना,एक पुनर्जन्म है मेरे लिए..

    © Aatish