• vidhi3 15w

    अनकही बातों का ढेर लग जाता है दिल में ,

    रोज मिलकर भी, उसे कुछ कह नहीं पाती मैं
    ©vidhi3