• violetsnowflake 14w

    @shadowofthoughts @differentgirl @baanee @tera_mera_ek_safar @hindiwriters @writersnetwork @archana_bhagat

    #words #wordporn #wordstothink #peculiars #kavita #hindi #poetry #poetrycommunity #repostkrisha #pod #mirakee #readwriteunite #HUnetwork
    .
    "For the society that never welcomes and accepts something different , you have destroyed several lives and if you won't stop to do so , you will see your doom soon "
    .
    (Check part 1 for the beginning)

    Read More

    House of peculiars - part 2

    (cont. from part 1)

    ...क्यों तू मेरा लिबास अपने मन मुताबिक बुनता रहा ,
    और मेरे ख्वाबों को , मेरे परों को मेरे से ही कोसो दूर करता रहा ।
    जब महसूस हुआ मुझे मेरे पर कटने का वो भीषड दर्द ,
    तोह कही कोई खिलती कलि मेरे दर्द से मुतासिर होके तुझे कलम ना कर दे , इस डर से मुझे दबाता रहा , मुझमें बाकी थी जो थोड़ी सी आस उसे जला कर राख बनाता रहा ।

    अरे कब तक करेगा यू सबके ख्वाबों को कलम , इस बेगानी ज़मीन पे थोड़ी हरियाली ही सींच ले ।
    अगर यूं ही सबको पहनाता रहा तू अपनी छोटी सोच का लिबास , तोह याद रखना ,
    जरूरत तोह तुझे भी पड़ेगी पानी की ,
    अपने बनाये हुए इस रेगिस्तान में तू कभी अपनी प्यास बुझाने की कोशिश भी मत करना ।

    ©violetsnowflake