• james_shah 14w

    आज फिर गुज़रा था उन गलियों से
    रुका था हर उन मोड़ पे
    समझाने इस दिल को की
    अब वो यहाँ किसी और का इंतेज़ार करती है।

    ©WordDreamer