• ravitakarkare 5w

    शायरी

    ऐसी थी तुम्हारी खता.......

    कि जिंदा तो हैं मगर जान नहीं है।

    Ravita