• ssargam 22w

    #writersnetwork #sikayat mehaz yhi thi na tujhe sargam

    Read More



    ख़ामोश रह कर भी
    बातें कहना..
    आंखें मूंद कर भी
    मुझे निहारना..
    बिना सवाल किए
    जवाब जान जाना..
    बिन छुए मुझे
    महसूस करना...
    आवाज़ से
    दिल का हाल जान जाना।
    ये सब सिर्फ तुझे आता था...
    या यूँ कहूँ के मैंने कभी सीखा ही नहीं।।

    © sargam