• dherendra 24w

    मृत्यु

    श्मशान में जले राख को देख कर
    एक बात तो समझ आया
    की लोग राख बनने के लिए ही
    पुरी ज़िन्दगी दुसरे को देख कर जलते हैं।।
    ©dherendra