• beshaklshayar_ 7w

    इसी ख़याल से पलकों पे रुक गए आँसू ,
    तिरी निगाह को शायद सुबूत-ए-ग़म न मिले ।

    वसीम बरेलवी