• aswrites2806 38w

    आशाआें की डाेर थी ,ताे हम जिदगीं जियां करतें थें आज आशाए हीं हमारी गुम हाें गई , आैर जिदगीं मी कहीं खाें सी गई !
    ©aswrites2806