• shourabh 18w

    चाहत

    हमें नहीं है चाहत पहचानें जाने की,
    हमें नहीं है चाहत किसी का प्यार पाने की।
    हम तो कागज़ की कस्ती है,
    हमें तो है आदत लहरों में बह जाने की ।

    ©shourabh