• akash_rajendra 15w

    गौहर-ए-अश्क

    कितने खुशनसीब थे वो गौहर-ए-अश्क ,

    जिन्हें मसीहा के कदमों पर बिखरने की
    चाहत थी मरियम की आँखों से टूटकर l

    ©Akash Rajendra