• happysoul45 5w

    वो शाम का दायरा मिटने नहीं देते ,

    हमसे सुबहे का इंतज़ार होता नहीं है