• vivekpandey 5w

    यूं एकटक चौखट से तेरा तकना
    इबादत नहीं तो क्या हैं

    इबादत ही तो हैं
    क्यू की हर शाम मेरे न आने की मायूसी तुम्हे तोड़ती नहीं,
    मेरे आने की उम्मीद तुम्हे मजबूत करती हैं

    ©vivekpandey | 77curves