• abhishekmanukumar 5w

    मुकम्म़ल वहीं से होके अधूरा लौटा हूँ
    जहाँ अपना कोई
    बिना कहें अलविदा अजनबी हो जाता हैं