• sifarnamaa 5w

    जौहर...

    उन निग़ाहों मे एक पुल था, जिसका एक सिरा...
    उस तरफ आ के खुले है ये जिधर जा के रूके..

    और भी एक था जौहर जो अभी याद नहीं..
    रास्ता भूल गए, हम ये किधर आ के रुके..

    सुरेन्द्र....


    ©sifarnamaa