• srajanmishra 15w

    इस जिस्म के बाज़ार में,
    मैं रूह बेचने निकला।
    ख़रीददार तो बहुत मिले,
    कदारदार ना मिला तुमसा।
    पैसों से लगाई क़ीमत,
    किसी ने ईमान लुटा डाला।
    इस्तेमाल करने वाले मिले,
    ना मिला चाहने वाला।

    ©srajanmishra