• kavish_kumar 1w

    एक ख्वाहिश अन्दर उठती है,

    प्रीत के अफसाने होने पर..

    नजरें भी झुक जाती है पर,

    उसके सामने होने पर..

    ©Aatish ��