• aksroohi_writeups 14w

    तेरे इश्क़ से मिले अश्क़ हैं आज
    इन अश्कों को बहने दो
    मैं ज़िंदा थी अब मर रही हूँ
    मुझे अधमरा रहने दो
    आँसूं ही हैं साथी सगे मेरे
    इन्हें मेरे अपनों में रहने दो
    जाते हो तुम तो बेशक़ जाओ
    पर मुझको मेरा रहने दो
    ©aksroohi_writeups