• vidhi3 23w

    ले गया छीन के कौन आज तेरा सब्रो-करार;
    बेक़रारी तुझे ऐ दिल कभी ऐसी तो न थी।
    ©vidhi3