• margdarshan 6w

    ख़ैरात में दिया था हमने अपना दिल,
    मोहतरमा ने हक़ समझ कर अपने पास रख लिया।।
    ©margdarshan