• ankitcs 14w

    दो पल

    अपनी तम्मनाओं के शहर से दो पल को तुम आ जाना
    इस आशिक़ के कफ़न की मिट्टी पे तुम आके फूल चढ़ा जाना
    ©ankitcs