• deepikarana08 14w

    इस तरह से दिल में तशरीफ़ ली तूने हर वक़्त जैसे महताब हो गया
    एक रोज आना तेरा अज़नबी के जैसे हर शाम तेरा दिदार पाना मुक़म्मल हो गया

    ©deepikarana08