• adhure_lafj 38w

    यादों की दहलीज।

    ईक दहलीज सी है यादों की,
    हर रोज उसे मैं पार करता हूँ।

    गैरों सा हो गया है रिश्ता अपना नींदों से,
    तनहाईयों संग अब मैं प्यार करता हूँ।
    @अधूरे_लफ्ज