• rajatpanwar 27w

    ''रास्तों का क्या कसूर ए पँवार
    वो तो हमारे ही तलबगार थे..
    '''भूल तो उन्हें पहचानने में कर गए
    जो सिर्फ दो कदम के हमराह थे...
    ✍....
    PanWar