• viyogi 26w

    मेरे यार

    ऐ मेरे यार ! यूँ मुझे दगा ना दे ।
    मैं इश्क़ - ऐ - दर्द से जागा हूँ ।
    यूँ मेरी रंजिशें बढ़ा ना दे ।
    ऐ मेरे यार ! यूँ मुझे दगा ना दे ।
    ये जिदंगी - मेरी ज़िंदगी
    ये दास्ताँ - मेरी दास्ताँ
    जो लिखे है दर्द मेरे नसीब मैं
    वो किसी और को खुदा ना दे ।
    ऐ मेरे यार ! यूँ मुझे दगा ना दे ।

    ©viyogi