• saritaaroras 14w

    पत्ता-पत्ता तोड़ता है जैसे गुलाब का कोई...
    तेरे हर लफ्ज़ को यूँ धीरे-धीरे मिटाया हमने...
    #2015
    ©saritaaroras