• talk_of_hearts 5w

    कुछ तो

    कुछ तो जरूर है दरमियाँ,
    जो बाते अनकही समझ लेते हो,
    कुछ तो जरूर है राब्ता,
    जाने क्यों अपने से लगते हो,
    कुछ तो जरूर हुआ है इस दिल को,
    इसमे आजकल तुम्ही तो रहते हो,
    कुछ तो जरूर बात है तुम में,
    जो इतने दूर होकर भी करीब लगते हो,
    कुछ तो कहना है इन दिनों तुम्हे,
    मगर जाने कहा तुम खोये हुए हो,
    कुछ तो राज है इन आँखों मे,
    जाने कबसे छुपाये बैठे हुये हो....
    ©talk_of_hearts