• mrbhardwaj 12w

    मुसाफिर

    मैं मुसाफिर हु उन गलियों का जिसकी मंज़िल अनजानी है।जिसे लिखा नही इश्वर ने पुरा मैं उसकी एक अधुरी कहानी हुँ।
    ©pritushbhardwaj