• shubhambiradar 15w

    महसूस करूँ तो अब भी सूनापन सीने में है,
    बालों में तेरी उँगलिया अब भी फँस जाती है,
    मेरी सुबह अब भी तेरी आँखो से होती है ।

    Mehsus karu toh ab bhi sunnapan seene me hai,
    Baalo me teri ungliya ab bhi fassti jati hai,
    Meri subah ab bhi teri aanhko se hoti hai.


    ©shubhambiradar

    @the_backspace_ones1