• akkirwt 5w

    मेरा गम

    उसके होंठों पे मेरा नाम जब आया होगा,
    खुद को रुसवाई से फिर कैसे बचाया होगा।
    सुनके यारों से अफ़साना मेरी बर्बादी का,
    क्या उसे अपना सितम याद ना आया होगा।।
    【◆】रावत 【◆】