• srajanjain 3w

    चंचल दिल ने फुदक फुदक कर , अपना तुमको माना है ,
    मेरे अल्फाज़ो से बेहतर , किसने तुमको जाना है ।।

    -सृजन जैन