• pankajsingh22 15w

    पानी

    न होता तो रह न पाते,
    हर लब्जो को कह ना पाते,
    तू ही हर जीवन की ज़िंदगानी है,
    क्या बताऊँ तुझसे ही हम इंसान है,
    तू कोई अनमोल रत्न से कम नही,
    तू निर्मल पानी है।

    कही ज्यादा हो जाता तो ,
    तबाही ला देता,
    तो कही बूंद बूंद में अमृत दे जाता,
    हर एक एहसास में तेरी कहानी है,
    तू है तो सारा जहां है,
    तू निर्मल पानी है।

    तेरी कोई एहसास मन को भाती है,
    तो कुछ हमारे जीवन अंग को ले जाती है,
    तेरा होना हमारे ज़िन्दगी की एक सबसे बड़ी मेहमानी है,
    तू सर्वश्रेष्ट है,
    तू निर्मल पानी है।


    ©pankajsingh22