• omer_writes 23w

    थोड़ा मैं खुद को बदलू थोड़ा तुम बदलो,
    चलो मिल कर करें फिर से नव-भारत का निर्माण,
    जहाँ मिले हर नारी को सम्मान,
    और बने मेरा भारत फिर से "मेरा भारत महान"����
    ��������������������

    Read More

    राम-राज्य

    राम राज्य की जरूरत आन पड़ी है देश में,
    दरिंदे घूम रहे है मर्द के भेष में,

    राम सा मर्यादा पुरुषोंत्तम कहाँ से लाऊँ मैं,
    इस काबिल भी नहीं के स्वंय मर्यादा पुरुषोंत्तम बन जाऊँ मैं,

    देश की द्रोपदी को चीर-हरण से कैसें बचाऊँ मैं,
    बंसीधर कृष्ण कन्हैया कहाँ से लाऊँ मैं,

    माँ की ममता और बहन की राखी का कर्ज कैंसे चुकाऊँ मैं,
    मैं तो इस लायक भी नहीं की उनकी रक्षा कर पाऊँ मैं।

    - अभिषेक ओमर
    ©omer_writes