• neomallick 5w

    ••••••••••••••••••••••••••••••••••••••••••••
    जाने किस मोड़ पर अब, आ गई है ज़िन्दगी
    कौन कहता है की मुझे,  भा गई है ज़िन्दगी
    ••••••••••••••••••••••••••••••••••••••••••••
    हर तरफ  माहौल है,  दंगे  और  फ़साद का
    खुद से ही लड़ने मुझे, मिला गई है ज़िन्दगी
    ••••••••••••••••••••••••••••••••••••••••••••
    दिन बमुश्किल कटे, और रात गुजरती नही
    कुछ इस कदर मुझे,  सहमा गई है ज़िन्दगी
    ••••••••••••••••••••••••••••••••••••••••••••
    कोई तो माँग रहा,  तुम्हें अपनी  दुआओं में
    ऐसी फ़िज़ूल बातों में,उलझा गई है ज़िन्दगी
    ••••••••••••••••••••••••••••••••••••••••••••
    स्याह मेरे हाथ में,पर ध्यान कहीं भटक रहा