• satender_tiwari 6w

    वो टूटे दिल से शायरी लिख रहे थे
    बहते आंसुओं से कहानी लिख रहे थे
    याद आ रहा था हर एक लम्हा उन्हें आज
    अपनी जुदाई की दास्तान लिख रहे थे।।

    वो टूट कर कहीं बिखर रहे थे
    दर्द को शब्दों में सिमेट रहे थे
    भरोसा किया था कभी खुद से ज़्यादा
    उस टूटे भरोसे की तस्वीर बुन रहे थे।।।

    अब मुस्कुराने की वजह ढूंढ रहे थे
    गुमसुम और मायूस हो रहे थे
    याद आ रहा था हर एक लम्हा आज
    आंसुओ से यादों को भुलाने बैठे थे।।।
    ©satender_tiwari