• mukesh_nagar 14w

    संतत मो पर कृपा करेहू।
    सेवक जानि तजेहु जनि नेहू॥

    मुझ पर निरंतर कृपा करते रहिएगा और अपना सेवक जानकर स्नेह न छोड़िएगा।